Darpan

by Asif Jariyawala
Clear
-
+

Product Description

ख़्वाहिशों का एक हुजूम है सीने में

जज़्बातों पर अपने इख़्तियार दे या रब !

एक संवेदनशील मन अपने अनुभवों की ज़मीं से शब्दरुपी बूंदों को बटोर कर जीवन सागर की हर एक बूंद के रहस्य को उजागर करने का प्रयास करता है । आसिफ़ जी जारियावाला की प्रत्येक रचना इसी तथ्य को उजागर करते हुए अंतर्मन की छटपटाहट, सच्ची चाहत, सच को साफ़ तौर से कह देने के सामर्थ्य एवम् उर्दू-हिन्दी मिश्रित सरल शब्दों के बलबूते वाचक मन को मोह लेती है। तप्त धूप में थका- हारा यात्री नीम वृक्ष की छाया में जिस आल्हाद को अनुभव करता है, जीवन की आपाधापी में उसी आनंद, संतुष्टि का रसास्वादन करवाने में कवि की सुन्दर, भावपूर्ण रचनायें परिपूरक है। संक्षिप्त में आसिफ़ जी की गज़लें उनके संवेदनशील मन का स्पष्ट दर्पण है जो उन्होंने आसपास देखा है, अनुभव किया है उसे अभिव्यक्ति देने का प्रयास किया है। आशा ही नहीं, पूर्ण विश्वास है – इंद्रधनुषी छटाओं के मानिंद आसिफ़ जी जारियावाला का “दर्पण” यह द्वितीय काव्य संग्रह उनकी पहचान बन उभरने एवम् वाचक मन पर अपनी छवि स्थापित करने में अवश्य कामियाब होगा।

– ड़ॉ अर्ज़िनबी युसुफ शेख (लेखिका)

Share

Reviews

There are no reviews yet.

Only logged in customers who have purchased this product may leave a review.

Front-4.png

The Infinite Depth

by Fakhruddin Ukani

The poetry hidden within these pages tells stories of love, madness, heartbreak, loneliness, surviving, hallucination, hope, healing, blooming .In darkest night the stars shine bright, so let lit the sky with our sparkles.

Share
Front

Rooh

by Reetu Pareek

जज्बात जिन्हें कह ना पाएं लब कभी।

उन्हें रूह तक पहुंचाया है 

शब्दों के सहारे कलम ने मेरी।

बिजोलिया (राजस्थान) की निवासी,लेखिका रितु पारीक पढ़ाई में m.com कम्पलीट कर चुकी हैं। वर्ष 2018 से ये राजस्थान की मशहूर music company “वीणा म्यूजिक” में कंटेंट राइटर की पोस्ट पर कार्य कर रही हैं।लिखने में इनकी रुचि बचपन से रही है। इनके लिए लिखना जीवन को सही मायनों में जीने जैसा है।इस किताब में लिखी ये पंक्तियां महज पंक्तियाँ नहीं रितु के दिल के जज्बात है जिन्हें कलम के सहारे  उन्होंने इस पुस्तक में उतारा है।

Share
Front-11.jpg

From bottom of heart

by Jiya Vora

‘From Bottom of Heart’ is a collection of poems on various themes like inspiration, life, motivation, love & nature. The book also contains certain quotes, which indeed speak volume with a very few words.

Share
Front

Unlocking Emotions and Beyond…

by Diksha Gupta

About the book

A compilation of 30 write-ups, particularly in three genres of English Language- Poems, Articles and Open Letters, this book expresses the writer’s feelings about some prevelant scenarios taking place in today’s world. The writer went through a lot of emotions while penning down her feelings and that’s how the name “Unlocking Emotions and Beyond…” came into existence. This engaging collection will drown you into emotions of Love, Hope, Regrets to name a few. It is an attempt to make you look at the things from the writer’s perspective and analyze them in a way you probably never looked at.

About the author

An ambivert by nature, Diksha loves to express her emotions through words penning them down rather than saying out aloud. Hailing from Uttrakhand and currently residing in New Delhi, this 22 year old is here with her first published work. A Pani-puri lover for life, she is currently pursuing CA and managing her own blog page. You can connect with her on different platforms- Instagram: @diaryofawritingfreak Email: diksha.97111@gmail.com Also to read her blogs, visit: diaryofawritingfreak.wordpress.com

Share
Front-16.jpg

Plum Under Wraps

by Akanksha Shrivastava

Akanksha Shrivastava is a 23 year old girl, working currently for an MNC in Mumbai. As filmy as you can say this, but she came from a city in Madhya Pradesh to Mumbai to discover who she is, while getting salaried by the company she works in. She is writing from a young age, but in a disclosed way. Growing up she had a smaller friend circle. Slowly she started penning down whatever she wants to say or want to scream out loud. This is her first attempt at writing a book. Poems written in this book are transparently a reflection of her soul. Many of you may relate to the lines written within as we all have been there but never expressed it.

Share
Front

Taham

by Ravi Kant

About the book

संघर्ष इंसान के जीवन का अभिन्न अंग है जिसके बिना वो अधूरा है | जीवन में संघर्ष नहीं तो इंसान होने का कोई अर्थ नहीं | संघर्ष के बिना अंत तय है| चाहे जैसी भी स्तिथि हो, कितनी भी कठिनाईयां क्यूँ ना आये, संघर्ष से मुँह नहीं फेरना चाहिए |क्योंकि भाग्य भी उसी का साथ देता है जिसमे गिर कर फिर उठने का साहस हो |

ज़िन्दगी के पन्ने पलटते जायेंगे |

जो साथ है वो बिछड़ते जायेंगे ||

About the author

हिमाचल प्रदेश के चम्बा ज़िलें के सताला गांव में जन्म हुआ | लिखने का शौंक बचपन से नहीं था | कॉलेज के दौरान कविताएं और शायरी पड़ना शुरु किया | उनमें ऐसी रूचि बनी की बाद में खुद से लिखना शुरु कर दिया | अब लिखना एक आदत बन चुकी है |

Share